Menu

Moolam

मूलं पाठनिर्णयश्च 

॥ श्रीः ॥

शिवरहस्ये नवमांशे शङ्करप्रादुर्भावो नाम षोडशोऽध्यायः ॥

पाठःविवरणम्
गुरुरत्नमालापुस्तकस्थः
जङ्गमवाडीमठस्थः
सरस्वतीमहालयप्रकाशितः
भूयांसि विवरणानि अधः वर्तन्ते

स्कन्द उवाच

तदा गिरिजया पृष्टस्त्रिकालज्ञस्त्रिलोचनः ।
भविष्यच्छिवभक्तानां भक्तिं संवीक्ष्य1 विस्मयन् ॥१॥
मौलिमान्दोलयन्देवो बभाषे वचनं मुने ।
शृणु त्वमेभिर्गणपैर्मुनीशैश्च सुरैस्तथा ॥ २॥
प्रभावं शिवभक्तानां भविष्याणां कलावपि2

ईश्वर उवाच

शृणु देवि भविष्याणां भक्तानां चरितं कलौ ॥ ३॥
वदामि सङ्ग्रहेणाहं3 श्रवणाद्भक्तिवर्धनम् ।
गोपनीयं प्रयत्नेन नाऽऽख्येयं यस्य कस्यचित् ॥ ४ ॥
पापघ्नं पुण्यमायुष्यं श्रोतॄणां मङ्गलावहम् ।
पापकर्मैकनिरतान्विरतान्सर्वकर्मसु ॥ ५ ॥
वर्णाश्रमपरिभ्रष्टान्4 अधर्मप्रवणान् जनान् ।
कल्यब्धौ मज्जमानांस्तान् दृष्ट्वाऽनुक्रोशतोऽम्बिके5॥ ६ ॥
मदंशजातं देवेशि कलावपि तपोधनम् ।
केरलेषु तदा विप्रं जनयामि महेश्वरि ॥ ७ ॥
तस्यैव चरितं तेऽद्य वक्ष्यामि शृणु शैलजे ।
कल्यादिमे6 महादेवि सहस्रद्वितयात्परम् ॥ ८ ॥
सारस्वतास्तथा गौडा मिश्राः7 कर्णाजिना द्विजाः ।
आममीनाशना देवि8 ह्यार्यावर्तानुवासिनः ॥ ९ ॥
शब्दार्थज्ञानकुशलास्तर्ककर्कशबुद्धयः9॥ १० ॥
जैना बौद्धा बुद्धियुक्ता मीमांसानिरताः कलौ ।
वेदबोधितवाक्यानामन्यथैव प्ररोचकाः ॥ ११ ॥
प्रत्यक्षवादकुशलाश्शल्यभूताः कलौ युगे10
मिश्राश्शास्त्रमहाशस्त्रैरद्वैतोच्छेदिनोऽम्बिके11॥ १२ ॥
औत्तरा विन्ध्यनिलया भविष्यन्ति महीतले ।
कर्मैव परमं श्रेयो नैवेशः फलदायकः ।
इति युक्तिपरामृष्टवाक्यैरुद्बोधयन्ति च ॥ १३॥
तेन घोराः कुलाचाराः कर्मसारा भवन्ति च12
तेषामुत्पाटनार्थाय13 सृजामीशे मदंशतः॥ १४॥
केरले शशलग्रामे14 विप्रपत्न्यां मदंशतः ।
भविष्यति महादेवि शङ्कराख्यो द्विजोत्तमः॥१५॥
उपनीतस्तदा मात्रा वेदान् साङ्गान् ग्रहीष्यति ।
अब्दावधि ततः15 शाब्दे विहृत्य स सुतर्कजाम् ॥ १६॥
मतिं मीमांसमानोऽसौ कृत्वा शास्त्रेषु निश्चयम् ।
वादिमत्तद्विपवरान् शङ्करोत्तमकेसरी ॥१७ ॥
भिनत्त्येव16 तथा बुद्धान् सिद्धविद्यानपि द्रुतम् ।
जैनान् विजित्य17 तरसा तथाऽन्यान्कुमतानुगान् ॥ १८॥
तदा मातरमामन्त्र्य परिव्राट् स भविष्यति ।
परिव्राजकवेषेण मिश्रानाश्रमदूषकान् ॥ १९ ॥
xxxxxxxx xxxxxxxx18 ।
दण्डहस्तस्तथा कुण्डी काषायवसनोऽमलः ॥ २० ॥
भस्मदिव्यत्रिपुण्ड्राङ्को19 रुद्राक्षाभरणोज्ज्वलः ।
ताररुद्रार्थपारीणः शिवलिङ्गार्चनप्रियः ॥ २१ ॥
स्वशिष्यैस्तादृशैर्घुष्यन् भाष्यवाक्यानि सोऽम्बिके ।
मद्दत्तविद्यया भिक्षुर्विराजति20 शशाङ्कवत् ॥ २२ ॥
सोऽद्वैतोच्छेदकान् पापानुच्छिद्याक्षिप्य21 तर्कतः ।
स्वमतानुगतान्देवि करोत्येव22 निरर्गलम् ॥ २३ ॥
तथापि प्रत्ययस्तेषां नैवासीच्छ्रुतिदर्शने23
मिश्राः शास्त्रार्थकुशलास्तर्ककर्कशबुद्धयः ॥ २४ ॥
तेषामुद्बोधनार्थाय तिष्ये भाष्यं करिष्यति ।
भाष्यघुष्यन्महावाक्यैस्तिष्यजातान् हनिष्यति ॥ २५ ॥
व्यासोपदिष्टसूत्राणां द्वैतवाक्यात्मनां शिवे ।
अद्वैतमेव सूत्रार्थं प्रामाण्येन करिष्यति ॥ २६॥
अविमुक्ते समासीनं व्यासं वाक्यैर्विजित्य च ।
शङ्करं स्तौति24 हृष्टात्मा शङ्कराख्योऽथ मस्करी ॥ २७ ॥

शङ्कर उवाच

सत्यं सत्यं नेह नानास्ति किञ्चिदीशावास्यं ब्रह्मसत्यं जगद्धि ।
ब्रह्मैवेदं ब्रह्म पश्चात्पुरस्तादेको रुद्रो न द्वितीयाय तस्थे25 ॥ २८॥
एको देवस्सर्वभूतेषु गूढो नानाकारोद्भासिभानैस्त्वमात्मा26
पूर्णापूर्णो नामरूपैर्विहीनो विश्वातीतो विश्वरूपो27 महेशः ॥ २९ ॥
भूतं भव्यं वर्तमानं28 त्वयीशे सामान्यं वै देशकालादिहीनः ।
नो ते मूर्तिर्वेदवेद्यस्त्वसङ्गस्सङ्गीव त्वं लिङ्गसंस्थो विभासि ॥ ३० ॥
त्वद्भासा वै सोमसूर्यानिलेन्द्रा भीषैवोदेत्येष सूर्यश्च देवः29 ।
त्वं वेदादौ स्वर एको महेशो वेदान्तानां सारवाक्यार्थविद्यः30 ॥ ३१ ॥
वैद्योऽभेद्यः सर्वभूताद्यवेद्यः भिद्येत दृष्ट्या तव हृत्तमोऽद्य31
ओङ्कारार्थः पुरुषस्त्वं हितं च सत्यज्ञानानन्दभूमाऽसि सोम32॥ ३२ ॥
बद्धो मुक्तो नासि सङ्गिष्वसङ्गी33 प्राणप्राणो मनसस्त्वं मनश्च ।
त्वत्तो वाचा मनसा सन्निवृत्तास्तवा34नन्दज्ञानिनो बुद्धभावाः ॥ ३३ ॥
त्वत्तो जातं 35भूतजालं महेश त्वया जीवत्येतदेवं36 विचित्रम् ।
त्वय्येवान्ते संविशत्येव विश्वं त्वां वै को वा स्तौति तं स्तव्यमीश37 ।
किञ्चिज्ज्ञात्वा सर्वभावेन बुद्ध्या त्वामात्मानं वेत्ति38 देवं महेशम् ॥ ३४ ॥

ईश्वर उवाच

इति शङ्करवाक्येन विश्वेशाख्यादहं तदा ।
प्रादुर्बभूव लिङ्गात्स्वादलिङ्गोऽपि महेश्वरि ॥ ३५ ॥
त्रिपुण्ड्रविलसत्फालश्चन्द्रार्धकृतशेखरः ।
नागाजि39नोत्तरासङ्गो नीलकण्ठस्त्रिलोचनः ॥ ३६ ॥
वरकाकोदरानद्धजटाभारस्त्वयाम्बया40 ।
तमब्रवं महादेवि प्रणतं यतिनां वरम् ॥ ३७ ॥
शिष्यैश्चतुर्भिश्च युतो भस्मरुद्राक्षभूषणः ।41
मदंशतस्त्वं जातोऽसि भुवि चाद्वैतसिद्धये42 ॥ ३८ ॥
पापमिश्राश्रितैर्मागैर्जैनदुर्बुद्धिबोधकैः43
भिन्ने वैदिकसंसिद्धे अद्वैते द्वैतवाक्यतः ॥ ३९ ॥
तद्भेदगिरिवज्रस्त्वं सञ्जातोऽसि मदंशतः ।
द्वात्रिंशत्परमायुस्ते शीघ्रं कैलासमावस ॥ ४० ॥
एतत्प्रतिगृहाण त्वं पञ्चलिङ्गं सुपूजय ।
भस्मरुद्राक्षसम्पन्नः पञ्चाक्षरपरायणः ॥ ४१ ॥
शतरुद्रावर्तनैश्च तारेण भसितेन च ।
बिल्वपत्रैश्च कुसुमैर्नैवेद्यैर्विविधैरपि ।
त्रिवारं सावधानेन गच्छ सर्वजयाय च ॥ ४२ ॥
त्वदर्थे कैलासाचलवरसुपालीगतमहा-
समुद्यच्चन्द्राभं स्फटिकधवलं44 लिङ्गकुलकम् ।
समानीतं सोमोद्यतविमलमौल्यर्चय परम्
कलौ लिङ्गार्चायां भवति हि विमुक्तिः परतरा ॥ ४३ ॥
स शङ्करो मां प्रणनाम मस्करी मयस्करं तस्करवर्यमार्ये ।
सङ्गृह्य लिङ्गानि जगाम वेगात्45 जेतुं स बुद्धार्हतजैनमिश्रान्46 ॥ ४४ ॥
तद्योगभोगवरसिद्धिविमुक्तिनाम-लिङ्गार्चनाधिगत-दिग्विजयः प्रकामम्।
सर्वज्ञपीठमधिरुह्य विजित्य मिश्रान् काञ्च्यां शिवे तव पुरः स च सिद्धिमाप ॥ ४५ ॥

इति श्रीशिवरहस्ये नवमांशे शङ्करप्रादुर्भावे षोडशोऽध्यायः

நூல் முடிவு பற்றிய குறிப்புகள்:

  1. क-ख-ग இம்மூன்று பழமையான பாடங்களிலும் இத்துடன் அத்யாயம் முற்றுப்பெறுகிறது.
  2. கடைசி ஶ்லோகத்திற்கு பல பாட பேதங்கள் உள்ளன:
    1. போலகம் ஸ்ரீ ராம ஶாஸ்த்ரிகள் குரு ரத்ன மாலை புஸ்தகம் பின்னிணைப்பு – क-पाठः तद्योगभोगवरमुक्तिसुमोक्षयोगलिङ्गार्चनात् प्राप्तजयः स्वकाश्रमे। तान् वै विजित्य तरसाऽक्षतशास्त्रवादैर्मिश्रान् स काञ्च्यामथ सिद्धिमाप॥
    2. ஸரஸ்வதீ மஹால் – ग-पाठः – स्वकाश्रमम्
    3. குரு ரத்ன மாலை வ்யாக்யானமாகிய ஸுஷமாவில் – तद्योगभोगवरसिद्धिविमुक्तिनामलिङ्गार्चनात् प्राप्तजयः स्वकाश्रमे । तान् वै विजित्य…
    4. நாராயண ஶாஸ்த்ரிகள் தமது Age Of Shankara நூலின் முகவுரையில் காட்டியுள்ளது तद्योगभोगवरसिद्धिविमुक्तयोग-लिङ्गार्चनाधिगत-दिग्विजयः प्रकामम्। सर्वज्ञपीठमधिरुह्य विजित्य मिश्रान् काञ्च्यां शिवे तव पुरः स च सिद्धिमाप॥

நான்கு பாதங்களிலும் ஒரே போல் 14 அக்ஷரங்கள் உடையதாக இந்த ஒரு பாடம் தான் உள்ளது. (மற்ற பாடங்களில் இரட்டை படை பாதங்களில் 11 அக்ஷரங்களே உள்ளன. அத்தகைய விஷம வ்ருத்தம் அவ்வளவு ப்ரஸித்தமல்ல.) மேலும் இதில் ஸர்வஜ்ஞ பீடம் ஏறி, இறுதியில் காமாக்ஷியின் எதிரே ஸித்தி அடைந்ததும் சொல்லப்படுகிறது என்பதால் அதிக தகவல்கள் கிடைக்கின்றன.

இதில் நாராயண ஶாஸ்த்ரி பாடத்தில் योग என்ற பதம் இரு முறை வந்துள்ளதால் அதற்கு பதில் नाम என்ற சொல் ஸுஷமாவிலிருந்து எடுக்கப்பட்டுள்ளது. இதனால் இன்ன பெயர்களையுடைய என்ற பொருள் கிடைக்கிறது.

மேலும் विमुक्त என்பதற்கு பதிலாக विमुक्ति என்ற பெயரே ஸுஷமாவில் காணப்படுகிறது. योग भोग என்பவற்றைப் போல் भावार्थप्रत्ययान्तமாகவும் சட்டென்று புரிகிறது. மேலும் புண்ய ஶ்லோக மஞ்ஜரியில் अर्चन्नेव च मुक्तिलिङ्गम् என்றும் ஜகத்குரு பரம்பரா ஸ்தவத்தில் मुक्तिलिङ्गार्चनानन्दविस्मृताशेषवृत्तये என்றும் இருப்பதால் विमुक्ति என்ற ஸுஷமா பாடத்தையே மேற்கொண்டுள்ளோம்.

  1. இவை தவிர பழைய சுவடிகளில் காணப்பெறாத சில ஶ்லோகங்கள் கிடைக்கப்பெறுகின்றன. ஆனால் அவை பிற்காலத்தில் சேர்க்கப்பட்டவை என்று தெரிகிறது. அவ்வாறே ஸுஷமாவிலும் குறிப்பிடப்பட்டுள்ளது. ஆகவே இவ்வெளியீட்டில் அவை சேர்க்கப்படவில்லை.

துணைநூல்கள்: #

  1. क इति पाठः – पोलगम् राम शास्त्रिणा शोधितः – गुरुरत्नमालायाः अनुबन्धः
  2. ख इति पाठः – शिवरहस्यम् सदाशिवाख्यानम् – भैरवपाठकः – जङ्गमवाडी मठस्था प्रतिलिपिः – अयं पाठः क पाठेन सङ्गच्छते
  3. ग इति पाठः – सरस्वती महाल् ग्रन्थालयद्वारा प्रकाशितः – श्रीसुब्रह्मण्यशास्त्रिणा शोधितः नवमांशः Part 1 Series No. 510
  4. ஸ்ரீ காமகோடி ப்ரதீபம் விஶ்வாவஸு, வைகாசி 14.05.1965, காஞ்சி க்ஷேத்ரமும் ஸ்படிக லிங்கமும் – கே. பாலஸுப்ரஹ்மண்ய ஐயர், பக்கம் 145-148
  5. ஸ்ரீ காமகோடி ப்ரதீபம் விஶ்வாவஸு, வைகாசி 14.05.1965, ஆனந்தகிரீய சங்கர விஜயம் – சாஸ்த்ர ரத்நாகர பண்டிதராஜ போலகம் ஸ்ரீராம சாஸ்த்ரிகள் , பக்கம் 149-153
  6. குரு ரத்னமாலை மற்றும் ஸுஷமா
  7. Age of Sankara, T.S.Narayana Sastri, Edited, T.N.Kumaraswami, B.G.Paul & Co., 1971

  1. ग: सं दी(वी)क्ष्य ↩︎
  2. ग: भविष्यताम् ↩︎
  3. ग: सङ्ग्रहेणैव) ↩︎
  4. क: वर्णप्रस्रवणान् ↩︎
  5. ग: दयया ↩︎
  6. ग: कल्पादिमे ↩︎
  7. ग: मिश्रकर्णाजिना ↩︎
  8. ग: आर्यावर्तानुवासिनः ↩︎
  9. ग: शब्दादि ज्ञानकुशलास्तर्ककर्कशबुद्धयः ↩︎
  10. ख: शिवे ↩︎
  11. ग: महाशस्त्रैरद्वैतोच्छन्दिनोऽम्बिके ↩︎
  12. ग: कर्मसाराभवंस्तथा – कर्मसारा जनास्तथा / जनास्तथेति वा | भाविकालिकवृत्तप्रसङ्गे भूतार्थभ्रमकारिकवचनमत्र अभवन् इति न युज्यत इति श्लोके पदान्तरनिवेशः कृतः (तेथियूर् शास्त्रिणः) ↩︎
  13. ग: तेषामुद्घाटनार्थाय ↩︎
  14. ग: शललग्रामे ↩︎
  15. ग: अब्दावधि ततः षष्ठे विहृत्य स सुतर्कजाम् ↩︎
  16. ग: भिनत्स्यति महाबुद्धान्त्सिद्धविद्यानपि ↩︎
  17. क / ग: विजिग्ये ↩︎
  18. [இங்கே ஒரு வரி விட்டுப்போயிருப்பதாக தோன்றுகிறது.] ↩︎
  19. क: भस्मदिग्धस्त्रिपुंड्राङ्गो ↩︎
  20. ग:विभास्यति शशाङ्कवत् ↩︎
  21. ग: पापानुच्छात्साद्यक्षिप्य ↩︎
  22. ग: करिष्यति ↩︎
  23. ग: प्रत्ययं / न भवेत् श्रुतिदर्शनैः ↩︎
  24. ग: शङ्करं स्तोष्यते हृष्टः इति, संहृष्टः शङ्करं स्तोता (लुट्) इति वा सङ्गतो भवेदिति भाति ॥ (तेदियूर् सुब्रह्मण्यशास्त्रिणः)) ↩︎
  25. ग: द्वितीयोऽवतस्थे ↩︎
  26. ग: नानाकारो भासि भानस्त्वमात्मा ↩︎
  27. ग: विश्वनाथो ↩︎
  28. ग: भूतैर्भव्यैर्वर्तमानैर् ↩︎
  29. क: अनलेन्द्राः ↩︎
  30. ग: वेद्यः ↩︎
  31. कः वेद्यो वैद्यः सर्ववेदात्मविद्यो भिद्येद्दृष्टया तव वै हृत्तमोऽद्य ↩︎
  32. ग: ओङ्कारार्थः पुरुषस्त्वं ऋतं च सत्यज्ञानानन्दभूमासि सीमा ↩︎
  33. क:सङ्गो ह्यसङ्गः ↩︎
  34. ग:तत्वा ↩︎
  35. ग: ज्ञातम् ↩︎
  36. क: जीवत्येवमेवं विचित्रम् ↩︎
  37. क: त्वां वैवैके स्तुवते स्तव्यमीशम् / ग: त्वय्येवान्ते संविशत्येव विश्वं त्वां वै को वा स्तुवते(?) स्तव्यमीश ↩︎
  38. ग: त्वामात्मानं वेद्मिदेवं महेशम् ↩︎
  39. ग: नागादि ↩︎
  40. कः वरकाकोदरानद्धराजद्धारस्त्वयाम्बया / ग: राजद्वार ↩︎
  41. क: शिष्यैश्चतुर्भिसंयुक्तं भस्मरुद्राक्षभूषणम् । मदंशतस्त्वं जातोऽसि ↩︎
  42. ग: मदंशजस्त्वं जातोऽसि ↩︎
  43. ग: पापमिश्राश्रिते मार्गे जैनदुर्बुद्धिबौधकैः ↩︎
  44. ग: समुद्यच्चन्द्राभस्फटिकधवलं ↩︎
  45. ग: वेगवान् (जेतुं) सद्यः सुबुद्धार्हतमिश्रजैनान् ↩︎
  46. ग:(जेतुं)सद्यः सुबुद्धार्हतमिश्रजैनान् ↩︎